मेहनत और सफलता Hard work and success

हिंदी प्रेरणादायक कहानी             

 

मेहनत और सफलता 

Hard Work and Success

           प्रत्येक सफल इंसान के पीछे उसकी सफलता की कोई न कोई कहानी छुपी होती है, चाहे वह किसी गरीबी से उठ कर अपनी मुकाम हासिल किया हो या किसी अमीरी में पल बड़ कर । सफलता के लिए प्रत्येक व्यक्ति (Hord Work And Success) कड़ी मेहनत  और लगन से काम करता है, ताकि वह अपने काम में सफलता प्राप्त कर सके। मेहनत ऐसी गाड़ी है जो सफलता के रास्ते खुद बनाती है और उसपर आगे चलती जाती है उसे चलाने वाला ड्राईवर कितना चला सकता है उस पर निर्भर करता है। कहते है वह हर इंसान पाप करता है जो बिना कुछ किए भोजन करता है। क्योंकि कर्म पहले किया जाता है कर्मफल बाद में भोगा जाता है। 

             तो चलिए आपको आज एक महान सफल ब्यक्ती के बारे में उनकी सफलता की कहानी बताते है जिससे हम सभी को सीख लेनी चाहिए और अपने जीवन में उसका अनुकरण करके अपने आप को सफल बनाना चाहिए।

अब्राहम लिंकन: अब्राहम लिंकन का जन्म 12 फरवरी 1809 को अमेरिका के एक गरीब परिवार में हुआ था, उनके पिता थामस लिंकन और माता नैंसी लिंकन थीं। इनकी प्रारंभिक शिक्षा स्कूल में न होकर घुमंतू शिक्षकों से हुई, कम समय में उन्होंने ज्यादा शिक्षा पा लिया था।

         अब्राहम लिंकन के जीवन से हमें सफल जीवन की प्रेरणा मिलती है। ये अपने जीवन काल में बहुत बार असफल हुए फिर भी अपने प्रयास में पीछे नहीं हटे और आगे बढ़ते गए। 
  अब्राहम लिंकन सफल होने के लिए अपने जीवन काल में कितनी बार असफल प्रयास किए हम जानते है —

अब्राहम लिंकन की असफलता से सीख –

> 31वे साल में बिजनेस किए, असफल रहे।
>32वे साल में State Legislator का चुनाव लड़ें हार गए।
>33वे साल में एक नया Busines शुरू किया और असफल हो गए।  
> 35वे साल में उनके मंगेदर का निधन हो गया।
> 36वे साल में उनका Nervous Break-Down हो गया।
>43वे और 48वे साल में कांग्रेस के लिए चुनाव लडा और हर गया।
> 55वे साल में उन्होंने Senate के लिए चुनाव लडा पर हार गया।
>56वे साल Vice Precident के लिए चुनाव लड़ा पर हार गया।
> 59वे साल फिर से Senate के लिए चुनाव लड़ा
 पर हार गया।
>वर्ष 1860 में President का चुनाव जीतकर अब्राहम लिंकन अमेरिका के 16वे राष्ट्रपति बने । 
         
         अब्राहम लिंकन ने जीवन में चुनौतियों का सामना किया आगे बढ़ते गए और सफलता हासिल किया।  इनके जीवन से हमें सीख मिलता है कि असंभव कुछ भी नहीं है, आपके मेहनत और ज़िद के आगे दुनिया झुकेगी और आप सफलता के शिखर पर खड़े होकर दुनिया को दिखा दोगे की हमने चुनौतियों से लड़कर मेहनत से अपना मुकाम हासिल कर लिया। अब्राहम लिंकन ने अमेरिका में दास प्रथा का अंत किया और अमेरिका को सबसे बड़े संकट गृह युद्ध से पार लगाया। 
       अब्राहम लिंकन जब एक लकड़ी के मकान में पैदा होकर दुनिया के सबसे ताकतवर देश के राष्ट्रपति बन सकते है तो हर व्यक्ति अपने लक्ष्य को पा सकता है उसे पाने की कोशिश निरंतर होनी चाहिए बार बार असफल होने से हमें पीछे नहीं हटना चाहिए। आगे बढ़ते रहिए सफलता एक दिन जरूर मिलेगी ।
     कोई सोच भी नहीं सकता था कि एक वाकलत करने वाला व्यक्ति सबसे ताकतवर देश का राष्ट्रपति बनेगा, अब्राहम लिंकन ने अपनी शादी मैरी डॉट नाम की लड़की से की। 
अब्राहम लिंकन की कुछ महत्वपर्ण प्रेरणा देने वाली बाते जो वह अपने बेटे रॉबर्ट टाड के स्कूल प्रिंसिपल को एक पत्र में लिखा था।
      “ मै चाहता हूं कि आप मेरे बेटे को बताईए की  हर बुरे व्यक्ति के पास भी अच्छा हृदय होता है, हर दुश्मन के अंदर एक दोस्त बनने  की संभावना भी होती है। आप उसे सिखाइए की मेहनत से कमाया हुआ एक रुपया, सड़क पर मिलने वालेे पांच रुपए के नोट से ज्यादा कीमती होता है। आप उसे बताइए की दूसरो से जलन की भावना अपने मन में न लाएं।
                    
                   आप उसे यह भी बताइए की नकल करके पास होने से फेल होना अच्छा है। किसी बात पर चाहे दूसरे उसे गलत कहे, पर अपनी सच्ची बात पर कायम रहने का हुनर उसमे होना चाहिए। दूसरो की बाते सुनकर उसमे से काम की बातो का चुनाव करना उसे आना चाहिए। आप उसे बताइएगा की उदासी को किस तरह प्रसन्नता में बदला जा सकता है। जब कभी उसे रोने का मन करे तो रोने में शर्म बिलकुल न करे। खुद पर और दूसरो पर विश्वास होना चाहिए। किसी भी इंसान को अच्छा बनने के लिए इन सब बातो का होना जरूरी है।”

अब्राहम लिंकन के जीवन से हमें बहुत कुछ सीख मिलती है। कि किस तरह अपने लक्ष्य को पाने के लिए अपने ज़िद पर आगे बढ़ना चाहिए और जबतक अपनी कामयाबी में सफल नहीं होते पीछे नहीं हटना चाहिए। सफलता के लिए त्याग और कठिन परिश्रम आवश्यक है। सफलता हमारी मुट्ठी में है बस हमें इसके प्रति दृढ़ संकल्पित होने की आश्यकता  है।

आपके लिए एक वाक्य –
कठिन परिश्रम एक ऐसी दवा है जो असफलता नामक बीमारी को जड़ से खत्म कर देती है।
जिंदगी में आगे बढ़ने से मत डरो, सफल हुए तो जीत मिलेगी, और अगर हार भी गए तो एक सीख मिलेगी।


जय हिन्द, वन्दे मातरम्

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *